What is Bounce Rate? 7 mind-blowing Tips to Reduce it.

What is Bounce Rate? 7 mind-blowing Tips to Reduce it.यहाँ आप बाउंस रेट का मतलब ही है बाउंस होना। एक सक्सेसफुल ब्लॉगर वही है जो अपने विजिटर को एक अच्छा सा इंफॉर्मेशन दें, और वह इंफॉर्मेशन ऐसी हो कि बार-बार वह आपकी साइट पर आए और सारा पोस्ट को अच्छी तरह से पढ़े। जितना हो सके उतने टाइम आपकी साइट पर रहे। क्योंकि विजिटर जितने टाइम आपकी साइट पर रहेगा उतना ही आपका बाउंसर रेट कम होगा। इसलिए जरूरी है कि आप अपने वेबसाइट में अच्छा पोस्ट डालें। What Is Bounce Rate ? चलो इसका मतलब समझते हैं।

एक सक्सेसफुल ब्लॉगर बनने के लिए आप यह चाहते हो कि आपके विजिटर आपकी ब्लॉक वेबसाइट पर ज्यादा टाइम रुके तो समझ लीजिए कि आपका बाउंस रेट को चेक करने का समय आ गया है।

अगर आपको अपनी पोस्ट को गूगल रैंक तू आना चाहते हैं तो बाउंस रेट काफी मायने रखता है।

बाउंस रेट को कम करने से पहले आपको जानना जरूरी है बाउंस रेट क्या है( What Is Bounce Rate?) और यह कैसे काम करता है?

What Is Bounce Rate?

जैसे कि दोस्तों हम सब जानते हैं कि हमारे ब्लॉक/ वेबसाइट में नए-नए विजिटर ऑर्गेनिक ट्रैफिक से सोशल मीडिया से या कोई भी रेफरल लिंक से आते हैं, यह विजिटर हमारी साइट पर बार-बार आते हैं और हमारी पोस्ट को पढ़ते हैं और ज्यादातर रुकते हैं।

लेकिन कुछ विजिटर आपकी साइट पर आते तो है लेकिन पेजों को क्लिक किए बिना ही वापस लौट जाते हैं।

कहने का मतलब यह है कि विजिटर आए और तुरंत ही वापस चले जाए इसे गूगल बाउंस रेट कहते हैं। और यह जितना ज्यादा होगा ब्लॉगर के owner के लिए उतना ही खराब है।

और इसका बहुत सारे कारण हो सकते है,बस आपको ध्यान रखना है कि आपके विजिटर आपकी साइट पर आकर रुके और जितने टाइम रुकेंगे उतना ही आपके लिए अच्छा है।

Also Read:-What is DMCA Protected?

Top Reason for Bounce Rate

  • वेबसाइट का लुक अच्छा ना होना
  • वेबसाइट का लोडिंग स्पीड बहुत होना
  • रेस्पॉन्सिव टेंप्लेट ना होना
  • कंटेंट अच्छा ना होना

How to Reduce Bounce Rate with Google Analytic?

जैसे कि हम बाउंस रेट को चेक करने के लिए Google Analytic का उपयोग कर सकते हैं| यह गूगल का एक ऐसा प्रोडक्ट है जिसमें हमको पता चलता है यह हमारे विजिटर कौन से देश से आए कितने पेज view हुए और कितना बाउंस रेट हुआ है, विजिटर आपकी साइट पर कितने टाइम रुका है| ऐसी कोई जानकारियां हमें Google Analytic के जरिए मिल सकती है। इसलिए अपनी वेब साइट या ब्लॉगर को Google Analytic में जरूर ऐड करें

Google Analytic के जरिए आप अपने बाउंस रेट को समय-समय पर ट्रैक करें, इससे आपको पता चलेगा आपका बाउंस रेट कितना है और फिर इसे कम करने के लिए अच्छी तरह अपनी साइट और कंटेंट को ठीक करें।

what Is Maximum Bounce Rate?

जैसे कि दोस्तों आपका बाउंस रेट है 35% से ऊपर है तो आपको थोड़ा सीरियस हो जाना चाहिए, से आपको यह पता चल जाता है कि आपके विजिटर आ रहे हैं लेकिन वह तुरंत ही वापस जा रहे हैं जो आपके लिए अच्छा नहीं है।

अगर बाउंस रेट 50 % से ज्यादा हो गया तो आपको और भी सीरियस हो जाना चाहिए और तुरंत ही अपनी साइट को फिक्स करना चाहिए।

जैसे कि हम समझते हैं कि हम हमारी साइट पर विजिटर लाने के लिए कितनी मेहनत करते है, अगर विजिटर हमारी साइट पर आए और रुके ही नहीं तो हमारी सारी मेहनत बेकार हो जाती है। इसलिए जरूरी है कि जितनी महेनत विजिटर को लाने के लिए हम करते हैं उतने ही महेनत विजिटर को हमारी साइट पर बनाए रखना है।

Trick For Reduce Bounce Rate

Use Good Theme

दोस्तों आपको एक ऐसा Responsive Theme से Home Screen डिजाइन बनाना है, जिसे आपके विजिटर को अच्छा लगे, इसके लिए आप अच्छा सा कलर या कोई भी एनिमेशन का उपयोग कर सकते हो आपकी साइट का Look अच्छा रहे जो आपके बाउंस रेट में काफी मदद करेगा।

Use Good Content

आपने सुना ही है “Content Is King” इसलिए जरूरी है कि आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर एक बढ़िया सा और क्वालिटी वाला कंटेंट डालें जो आपके विजिटर को आपकी साइट पर बांध कर रखें।

Do Fast Website Speed

जैसे कि दोस्तों हम जानते हैं कि अगर साइट की स्पीड बहुत ही लोडिंग ले रही होगी तो आपके विजिटर पर वह कुछ खास असर नहीं रखती, इसलिए जरूरी है कि आप अपने साइट की स्पीड को चेक करें।

आप अपनी साइट की स्पीड को 90 से 100 तक के बीच में ले जाए। अगर वह कम है तो उसके लिए आप साइड के इमेज और मल्टीमीडिया को customize करें जिससे आपकी साइट की स्पीड बढ़ने का चांस रहेगा।

Internal links

आप अपने कंटेंट में आपकी ही साइड के इंटरलिंक्स भी दाले। इंटरनल लिंक्स की वजह से विजिटर आपके एक पोस्टर से दूसरी पोस्ट में आसानी से जा सकता है और वह ज्यादा टाइम आपके साइट पर रहेंगे और यह आपके लिए बहुत ही अच्छा रहता है।

Use Mobile Friendly Templet

जैसे कि दोस्तों हम जानते हैं कि आजकल सभी के पास मोबाइल है और यह मोबाइल ही आपकी साइट का ट्रैफिक बढ़ाने का काम करता है, ज्यादातर लोग मोबाइल से ही सर्च करते हैं, इसलिए आपको आपकी वेबसाइट या ब्लॉग का टेंपलेट मोबाइल फ्रेंडली रखना है|जिससे आसानी से मोबाइल में भी आपकी वेबसाइट का लुक अच्छी तरह दिखे।

Use More Word Article

आप अपना आर्टिकल 500 से 600 वर्ड के लिखे क्योंकि ज्यादा word लिखने से भी आपके यूजर्स को वह लंबा लगता है और बीच में ही छोड़ कर चले जाते हैं। लेकिन आर्टिकल लिखते वक्त ध्यान रखना है कि आप अपने पैराग्राफ को ब्रेक करके लिखें। पैराग्राफ ज्यादा लंबा ना हो वह ध्यान रखें।

आपका आर्टिकल जितना लंबा होगा और पैराग्राफ होगे उतना ही रीडर्स को पढ़ने में आसानी रहेगी और वह लंबे समय तक आपकी पोस्ट को पढेगा। फालतू की कोई भी चीज को मत लिखे वह आपके टाइम बर्बाद करने के जैसा रहता है।

Use Search Box (सर्च बॉक्स का यूज करें)

दोस्तों यह बहुत ही जरूरी है आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट में Search Boxको जरूर से ऐड करें यह Search Box की वजह से विजिटर आपकी साइट मैं जब भी आए तो वह सर्च करके आपके आर्टिकल को ढूंढ पाए, उसको कुछ भी आपकी साइट से चाहिएगा तो वह आसानी से जानकारी ढूंढ पाए।

Conclusion

तो दोस्तों आपने देखा कि (What Is Bounce Rate?) बाउंस रेट क्या है? (How to Reduce Bounce Rate ?) बाउंस रेट को कैसे कम कर सकते हैं। अगर आप एक सक्सेसफुल ब्लॉगर बनना चाहते हो अच्छी इनकम करना चाहते हो, तो आप अपने बाउंस रेट को कम रखें और एक बढ़िया क्वालिटी का कंटेंट अपने विजिटर को प्रोवाइड करें। आपको यह आर्टिकल कैसा लगा प्लीज कमेंट बॉक्स में जरूर बताइए|

Leave a Comment